तेज खबरेंनई दिल्ली

डॉक्टर यशदीप रुस्तगी एमएस, एमसीएच, (यूआरओ) वरिष्ठ सलाहकार यूरोलॉजी और रोबोटिक्स

संवाददाता मुकेश गुप्ता

 

किडनी इंफेक्शन का इलाज आपको मेडिकल से दवा लेने या घरेलू नुस्खे अपनाने की बजाय डॉक्टर से ही लेना चाहिए। क्योंकि आपकी हालत कितनी गंभीर है यह तो डॉक्टर ही बता सकते हैं। किडनी में संक्रमण के कारण कुछ लोगों की हालत इतनी गंभीर हो सकती है कि उन्हें अस्पताल में भर्ती कराना पड़ सकता है। जहां ज्यादातर लोगों को प्राथमिक जांच के बाद दवाएं देकर घर भेज दिया जाता है, वहीं किडनी के संक्रमण की दवाएं आमतौर पर एक हफ्ते तक चलती हैं और व्यक्ति पूरी तरह ठीक हो जाता है। हालांकि कुछ मामलों में इसका समय बढ़ भी सकता है। अगर किडनी इंफेक्शन का इलाज समय पर न किया जाए तो यह जानलेवा हो सकता है, अगर आपको किडनी की बीमारी से जुड़े कोई लक्षण नजर आ रहे हैं तो तुरंत विशेषज्ञ चिकित्सक से संपर्क करें। चिकित्सक आपकी सभी जांच करेंगे। उसके बाद वह आपको यूरोलॉजिस्ट से मिलने की सलाह दे सकता है। किसी भी बीमारी का सही निदान और उसका सही इलाज, बहुत दूर तक जाता है, विशेषज्ञों का कहना है कि डॉक्टर द्वारा बीमारी का सही निदान करना मरीज के लिए आधी लड़ाई जीतने जैसा है। कई बीमारियों के एक जैसे लक्षण होने के कारण एक आम आदमी के लिए यह पहचानना मुश्किल होता है कि उसे बीमारी के लिए सलाह लेनी चाहिए। किस विशेषज्ञ को देखना चाहिए, जैसे कि अगर किसी को गुर्दे की पथरी है, पेशाब के मार्ग में रुकावट है, तो यह गुर्दे को प्रभावित करता है, गुर्दे के ट्यूमर और गुर्दे के अल्सर की समस्या हो सकती है। इसलिए ऐसे मामलों में किसी यूरोलॉजिस्ट से सलाह लेनी चाहिए, मैक्स हॉस्पिटल के यूरोलॉजिस्ट डॉ यशदीप रुस्तगी के मुताबिक इस बीमारी में किसी तरह की देरी नहीं होनी चाहिए और किसी भी तरह के लक्षण नजर आने पर तुरंत डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए. .

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
Close